Search

ज्ञानोदय गुरुकुल में दो दिवसीय कार्यशाला पॉलेक्स -टी IV का आयोजन


आज दिनांक 27 मई को शहर के गोला रोड स्थित ज्ञानोदय गुरुकुल स्कूल में आईएपिटि -एशियन फिजिक्स ऑलम्पियाड सेल दिल्ली व एशियन डेवलपमेंट एजुकेशनल एंड रिसर्च फॉउन्डेशन के तत्वाधान में विज्ञान शिक्षकों व छात्रों के लिये दो दिवसीय विज्ञान कार्यशाला पॉलेक्स- टी IV का शुभारंभ हुआ I कार्यक्रम की शुरुआत विद्यालय के प्राचार्य डॉ. हिमांशु पाण्डेय, बीएसईबी के पूर्व चेयरमैन व आईएपिटि , बिहार के प्रेसिडेंट प्रो. राजमणि प्रसाद सिन्हा , आईआईटी पटना के प्राध्यापक प्रो (डॉ ) अमलेंदु ठाकुर व एडिईआरएफ के महासचिव ईं अमीतेश्वर आनंद के द्वारा दीप प्रज्जवलित करने के साथ हुई I कार्यक्रम के दौरान डॉ राजमनी प्रसाद ने सहभागियों को संबोधित करते हुए विज्ञान विषय की पढाई करने के आसान तरीकों तथा विज्ञान के सिद्धान्तों तथा प्रयोगों के महत्त्व से अवगत कराया I डॉ हिमांशु पाण्डेय ने अपने संबोधन में बताया कि विज्ञान एक ऐसा अध्ययन है जिसमें सिर्फ़ प्रयोग ही सिद्धांतों को पुष्टि करते हैं । अत: अगले दो दिन तक हम यही प्रयास करना सीखने वाले हैं कि कैसे प्रयोग और सिद्धांत में तारतम्यता बनायी जा सके । हमारा यही मकसद होगा कि ये सैद्धांतिक व प्रायोगिक सीखें आने वाले समय में न सिर्फ़ आपका बल्कि आपके सम्पर्क में आने वालों का भी मार्गदर्शन करेंगे । कार्यकम में डॉ अमलेंदु ठाकुर ने बच्चों को इंस्ट्रूमेंटल एरर व अन्य महत्वपूर्ण जानकारियाँ दीं । ईं अमीतेश्वर आनंद ने भी अपने विचार रखते हुए प्रतिभागियों को विज्ञान के आकर्षक तथ्य बताए । प्रतिभागियों ने भौतिकी व रसायन के लगभग तीस प्रयोगों को किया व अपनी जिज्ञासा शाँत की । इस कार्यक्रम में बिहार – झारखण्ड के अलग-अलग विद्यालयों में पढ़ने वाले लगभग 400 विद्यार्थी एवं शिक्षक शामिल हुए I छात्रों के समक्ष कई रुचिकर प्रायोगिक डेमोंस्ट्रेसन भी किए गए तथा छात्रों को प्रायोगिक कौशल से संबंधित कई प्रयोग कराया गया I छात्रों में विज्ञान के प्रयोगों को लेकर काफी उत्साह देखा गया I कई छात्रों ने वहाँ उपस्थित विशेषज्ञों से कई तरह के प्रश्न पूछे जिसका उन्हें विशेषज्ञों द्वारा व्याख्या के साथ उत्तर दिया गया I कल कार्यशाला का अंतिम दिन है , जिसमें आईएपिटि के राष्ट्रीय अध्यक्ष व आईआईटी कानपुर के पूर्व प्राध्यापक प्रो (डॉ ) विजय अवधेश सिंह के अतिरिक्त आईआईटी पटना के प्राध्यापक प्रो (डॉ ) उत्पल रॉय व कई अन्य नामी गिरामी अनुभवी शिक्षक शामिल होने वाले हैं । कल एक डायग्नोस्टिक टेस्ट प्रतियोगिता का भी आयोजन होना है जिसका पुरस्कार व प्रमाणपत्र वितरण प्रो विजय अवधेश सिंह के द्वारा होना निश्चित हुआ है ।



31 views0 comments